DiscoverPuliyabaazi Hindi PodcastEp. 73: 1857 की लड़ाई का आँखों देखा हाल
Ep. 73: 1857 की लड़ाई का आँखों देखा हाल

Ep. 73: 1857 की लड़ाई का आँखों देखा हाल

Update: 2020-10-01
Share

Description

It’s rare to find a narration of earthshaking political events by a commoner of those times. That’s precisely why Vishnu Bhat Godse Varsaikar’s Maazaa Pravaas is special. This book provides an eyewitness account of the 1857 mutiny. In this puliyabaazi, we discuss a few counter-intuitive and lesser-known facts from that era based on Varsaikar’s account.

१८५७ की लड़ाई से हर भारतीय कुछ हद तक तो वाक़िफ़ ज़रूर है | कुछ लोगों ने इसे ग़दर कहा तो कुछ लोगों ने इसे आज़ादी की पहली जंग की उपाधि दी | लेकिन इस लड़ाई का आँखों देखा वर्णन मिल जाए तो? ऐसा ही कुछ हमें विष्णु भट्ट वरसैकर की नायाब किताब ‘माझा प्रवास’ में देखने मिलता है | तो इस पुलियाबाज़ी में हमने इस किताब की मदद से १८५७ के भारत की राजनीति, समाज, और रहन-सहन समझने की कोशिश की |

Readings:

  1. 1857: The Real Story of the Great Uprising, translation by Mrinal Pande

  2. Maazaa Pravaas (Marathi) by Vishnubhatt Godse

  3. Adventures of a Brahmin Priest: My Travels in the 1857 Rebellion - Mazha Pravas, translation by Priya Adarkar and Shanta Gokhale


Puliyabaazi is on these platforms:

Twitter: https://twitter.com/puliyabaazi

Facebook: https://www.facebook.com/puliyabaazi

Instagram: https://www.instagram.com/puliyabaazi/

Subscribe & listen to the podcast on iTunes, Google Podcasts, Castbox, AudioBoom, YouTube, Spotify or any other podcast app.

Comments 
loading
In Channel
loading
Download from Google Play
Download from App Store
00:00
00:00
x

0.5x

0.8x

1.0x

1.25x

1.5x

2.0x

3.0x

Sleep Timer

Off

End of Episode

5 Minutes

10 Minutes

15 Minutes

30 Minutes

45 Minutes

60 Minutes

120 Minutes

Ep. 73: 1857 की लड़ाई का आँखों देखा हाल

Ep. 73: 1857 की लड़ाई का आँखों देखा हाल

IVM Podcasts