DiscoverPuliyabaazi Hindi PodcastEp. 73: 1857 की लड़ाई का आँखों देखा हाल
Ep. 73: 1857 की लड़ाई का आँखों देखा हाल

Ep. 73: 1857 की लड़ाई का आँखों देखा हाल

Update: 2020-10-01
Share

Description

It’s rare to find a narration of earthshaking political events by a commoner of those times. That’s precisely why Vishnu Bhat Godse Varsaikar’s Maazaa Pravaas is special. This book provides an eyewitness account of the 1857 mutiny. In this puliyabaazi, we discuss a few counter-intuitive and lesser-known facts from that era based on Varsaikar’s account.

१८५७ की लड़ाई से हर भारतीय कुछ हद तक तो वाक़िफ़ ज़रूर है | कुछ लोगों ने इसे ग़दर कहा तो कुछ लोगों ने इसे आज़ादी की पहली जंग की उपाधि दी | लेकिन इस लड़ाई का आँखों देखा वर्णन मिल जाए तो? ऐसा ही कुछ हमें विष्णु भट्ट वरसैकर की नायाब किताब ‘माझा प्रवास’ में देखने मिलता है | तो इस पुलियाबाज़ी में हमने इस किताब की मदद से १८५७ के भारत की राजनीति, समाज, और रहन-सहन समझने की कोशिश की |

Readings:

  1. 1857: The Real Story of the Great Uprising, translation by Mrinal Pande

  2. Maazaa Pravaas (Marathi) by Vishnubhatt Godse

  3. Adventures of a Brahmin Priest: My Travels in the 1857 Rebellion - Mazha Pravas, translation by Priya Adarkar and Shanta Gokhale


Puliyabaazi is on these platforms:

Twitter: https://twitter.com/puliyabaazi

Facebook: https://www.facebook.com/puliyabaazi

Instagram: https://www.instagram.com/puliyabaazi/

Subscribe & listen to the podcast on iTunes, Google Podcasts, Castbox, AudioBoom, YouTube, Spotify or any other podcast app.

Comments 
In Channel
loading
Download from Google Play
Download from App Store
00:00
00:00
x

0.5x

0.8x

1.0x

1.25x

1.5x

2.0x

3.0x

Sleep Timer

Off

End of Episode

5 Minutes

10 Minutes

15 Minutes

30 Minutes

45 Minutes

60 Minutes

120 Minutes

Ep. 73: 1857 की लड़ाई का आँखों देखा हाल

Ep. 73: 1857 की लड़ाई का आँखों देखा हाल

IVM Podcasts